विधि विधान के साथ खुले गंगोत्री और यमनोत्री धाम के कपाट

उत्तरकाशी (पी एस रावत )| अक्षय तृतीया के पावन पर्व पर विधि-विधान के साथ विश्व प्रसिद्ध गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट खोल दिए गए हैं। इसी के साथ चार धाम यात्रा का भी शुभारंभ हो गया। पहले दिन गंगोत्री में करीब तीन हजार और यमुनोत्री में दो हजार श्रद्धालुओं ने दर्शन किए। गुरुवार को मुखबा से विदाई के बाद भैरोघाटी स्थित भैरो मंदिर में रात्रि विश्राम कर गंगा की डोली शुक्रवार सुबह आठ बजे रवाना हुई। पूर्वाह्न करीब साढ़े दस बजे डोली गंगोत्री पहुंची तो पूरा वातावरण भक्तिमय हो उठा।

यहां तीर्थ पुरोहितों के साथ हजारों श्रद्धालुओं ने जय गंगा मैया के उद्घोष के साथ डोली का स्वागत किया। डोली के मंदिर परिसर में पहुंचते ही तीर्थ पुरोहितों ने वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच कपाट खोलने की प्रक्रिया आरंभ की। गंगोत्री मंदिर समिति के सचिव सुरेश सेमवाल ने बताया कि शुभ मुहूर्त पर ठीक सवा बारह बजे मंदिर के कपाट खोल दिए गए।

यमुनोत्री धाम का दृश्य भी कमोबेश ऐसा ही था। परंपरा के अनुसार सुबह साढ़े नौ बजे यमुना की डोली सवा नौ बजे शनिदेव की अगुआई में शीतकालीन प्रवास स्थल खरसाली से रवाना हुई। पारंपरिक वाद्य यंत्रों की धुन पर सैकड़ों श्रद्धालुओं के साथ डोली साढ़े ग्यारह बजे यमुनोत्री धाम पहुंची। इसके बाद हवन-पूजन के बाद विधिविधान के साथ सवा बारह बजे यमुनोत्री धाम के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए। इस अवसर पर उत्तराखंड के पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज भी मौजूद थे।

Releated Post