सोशल मीडिया का विवादित गीत के ऊपर व्यंग्य

Social media react controversial song

भरतु की ब्वारी के नाम से लिखने वाले नवल खाली (Naval Khali) जी ने, भरतु की ब्वारी (Bhartu ki bwari) के माध्यम से CM त्रिवेन्द्र सिंह रावत (CM Trivendra singh Rawat) के ऊपर विवादित गीत पर नया व्यंग्य लिखा है। भरतु की ब्वारी से लगातार उत्तराखंड के जनमानस के बीच की आवाज लिखने वाले नवल खाली  जी इस व्यंग्य से विवादों में घिर सकते हैं।

आप भी जानिए आखिर क्या है यह व्यंग्य    

“भरतु की ब्वारी का संदेश —– धन हो जेठ जी ,लेके आना सेठ जी—- जारी— नवल खाली–
——————-///——-

हमारे जेठ जी को झाँपु कहने वाले लोगों के मुंह मे केले पड़ें !!! नारियल फूटे उनके बरमण्ड में , जिन्होंने हमारे जेठ जी सी.एम.साब को कहा कि …ज्यूंदाल मारना पड़ेगा इनके बरमण्ड में !!!
अब देखो आजकल हमारे जेठ जी पूरे कुटुंब के साथ , उत्तराखंड के लिए निवेशक ( बड़ा लल्ला ) लेने सिंगापुर जा रखे !!! जबकि सुनीता दी को …जाज (जहाज) में बहुत रिंग भी होती पर फिर भी बेचारी दीदी सरकारी नौकरी से छुट्टी लेकर भी तुम लोगो के विकास के लिए इतनी दूर जा रखी !!!! और जेठ जी के बच्चे भी पढाई लिखाई की चिंता छोड़कर तुम लोगों की चिंता करके सिंगापुर जा रखे कि …कैसे इस प्रदेश का भला हो ???

तुम लोगों को ऐसे सी.एम. सपने में भी नही मिलेंगे जिन्होंने अपनी पूरी कुटुंबदारी तुम लोगों के विकास के लिए दिन रात दौड़ा रखी !!!

गाँव मे प्रधानी जी का काम प्रधानपति को करते हुए आप सबने देखा होगा !!!! सुनीता दीदी , दिन रात एक करके पति के कदम से कदम मिलाकर इस प्रदेश के लिए समुद्र पार करके ठेठ सिंगापुर तक जा रखी हैं !!! वापसी में छल पूजाई का खर्चा अलग से करना पड़ेगा !!!
तुम लोगों का क्या जा रहा ?? बिस्तर में पड़े पड़े झाँपु झाँपु लिखते रहो ….. !!!!!
आप सबको गर्व होना चाहिए कि हमारे जेठ जी जैसे सी.एम. है इस प्रदेश के …..जेठ जी ये प्रदेश कभी भी तुम्हारे ऋण गुण नही चुका पायेगा !!! अब देखना ..हमारे जेठ जी इतने बड़े बड़े सेठ (निवेशक) लेकर आएंगे और इतने विकास होंगे कि तुम लोग …विकास को संभाल ही नही पाओगे….!!!!
मैं तो पूरे परिवार को बड़ी नमस्ते करती हूँ !!!! धन हो जेठ जी …. सिंगापुर से लेके आना खूब सेठ जी !!!! ताकि भर जाए उत्तराखंड की इस गरीब जनता का पेट जी !!!!

भरतु की ब्वारी
फ्रॉम राजावाला”

सूत्रों से खबर मिली है कि यह विवादित गीत बनाने वाले सभी कलाकारों के खिलाफ पुलिस तहरीर की गयी है। अब क्या ऐसे हर व्यंग्य पर तहरीरें होंगी कहना मुश्किल है।  अभी तक सभी आरोप प्रत्यारोपों के बीच भी उत्तरखंड के मुख्यमंत्री पर भ्रस्टाचार का कोई आरोप नहीं लगा है। लेकिन ऐसे व्यंग्यों का आने वाले चुनावों में प्रतिकूल असर पड़ने के अासार हैं।

यह भी पढ़ें :

लंबगांव छेड़छाड़ मामला और विवाद

घेरे में केन्द्र सरकार : विवादित SC/ST Act के खिलाफ आंदोलन उग्र

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत पर गीत से सीधा प्रहार 

Releated Post