तो क्या मार्च से बंद हो जाएगा मोबाइल नंबर पोर्टेबल सिस्टम ? नहीं करवा पाएंगे नंबर चेंज !

mobile_number_portability_banned closed

Mobile number portability | Service Banned | Mobile number portability status closed | March 2019 | MNP International Telecom Solution | Department of Telecommunication (DOT) | mobile number portability news india |

नई दिल्ली: यदि आप भी अपना मोबाइल नंबर पोर्ट करवाना चाहते हैं तो फिर मोबाइल नंबर चेंज करने की सुविधा का फायदा आपको जल्दी से लेना होगा आपको बता दे की मार्च 2019 के बाद से आपको इस सुविधा से वंचित रहना पड़  सकता है.

भारत में पोर्टबिलिटी की सर्विस देने वाली कंपनियां एमएनपी इंटरकनेक्शन टेलिकॉम सॉल्यूशंस और सिनिवर्स टेक्नॉलजीस ने डिपार्टमेंट ऑफ टेलिकम्यूनिकेशन को बताया है कि जनवरी से पोर्टिंग फी में 80 पर्सेंट तक की कमी आई है जिसके कारण कंपनियों को भारी घाटा हो रहा है और वे अपनी सर्विस बंद कर सकती हैं. इन दोनों कंपनियों का लाइसेंस मार्च 2019 में खत्म हो रहा है. इस कंपनियों ने कहा है कि इस वजह से मार्च 2019 में लाइसेंस खत्म होने के बाद वह अपनी सेवाएं देना बंद कर देंगे.

यदि इस  कंपनी की सर्विस पूरी तरह से बंद हो जाती है तो मोबाइल यूजर्स के पास किसी तरह का कोई Mobile Number Portability आॅप्शन ही नहीं बचेगा. हाल ही के दिनों में टाटा टेलिसर्विस, एयरसेल, टेलिनॉर इंडिया ने भी अपनी सर्विस बंद कर दी हैं जबकि एयरटेल, वोडाफोन इंडिया और आइडिया सेल्युलर ने अपने टैरिफ में खासी कटौती की है जिसके कारण बड़ी संख्या में कस्टमर्स अपना नंबर पोर्ट कराना चाहते हैं. डिपार्टमेंट ऑफ़ टेलेकमुनिकशन अन्य उपायों के बारे में भी सोच सकता है  अथवा  किसी और कंपनी को इस काम की जिम्मेदारी दे सकते हैं.

पिछले कुछ समय से डाटा और फ्री वौइस् के कारण कंपनियों के बीच में एक पर्तिस्पर्धा का माहौल है तथा उपभोक्ता इस सर्विस का फायदा बड़ी तादात में ले रहे थे। इसी कड़ी में हाल ही में पतंजलि सिम भी लांच किया गया था।  उपभोक्ताओं का रुझान भी इस और जा रहा था.

रिलांयस कम्यूनिकेशन के आने के बाद से टाटा टेलीकॉम सर्विस, एयरसेल , टेलीनॉर इंडिया, भारती एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया सेलुलर के प्लानो में काफी बड़ा अंतर देखने को मिला है जिसका उपभोक्ता पूरा फायदा ले रहे हैं।

Releated Post