जानिए IPC में महत्वपूर्ण धाराओं का मतलब ….

जानिए IPC में महत्वपूर्ण धाराओं का मतलब ….

जब भी IPC धाराओं की बात होती है तो आम नागरिक इन धाराओं की अनभिज्ञता के चलते सहमें से रहते हैं। आप भी जानिये कि भारतीय समाज को क़ानूनी रूप से व्यवस्थित रखने के लिए सन 1860 में लार्ड मेकाले की अध्यक्षता में भारतीय दंड संहिता (Indian Penal Code) बनाई गई थी। इस संहिता में विभिन्न अपराधों को सूचीबद्ध कर उस में गिरफ्तारी और सजा का उल्लेख किया गया है। इस में कुल मिला कर 511 धाराएं हैं। कुछ महत्वपूर्ण  धाराएं निम्न हैं

  • धारा 307 = हत्या की कोशिश
  • धारा 302 =हत्या का दंड
  • धारा 376 = बलात्कार
  • धारा 395 = डकैती
  • धारा 377= अप्राकृतिक कृत्य
  • धारा 396= डकैती के दौरान हत्या
  • धारा 120= षडयंत्र रचना
  • धारा 365= अपहरण
  • धारा 201= सबूत मिटाना
  • धारा 34= सामान आशय
  • धारा 412= छीनाझपटी
  • धारा 378= चोरी
  • धारा 141=विधिविरुद्ध जमाव
  • धारा 191= मिथ्यासाक्ष्य देना
  • धारा 300= हत्या करना
  • धारा 309= आत्महत्या की कोशिश
  • धारा 310= ठगी करना
  • धारा 312= गर्भपात करना
  • धारा 351= हमला करना
  • धारा 354= स्त्री लज्जाभंग
  • धारा 362= अपहरण
  • धारा 415= छल करना
  • धारा 445= गृहभेदंन
  • धारा 494= पति/पत्नी के जीवनकाल में पुनःविवाह
  • धारा 499= मानहानि
  • धारा 511= आजीवन कारावास से दंडनीय अपराधों को करने के प्रयत्न के लिए दंड।

यह भी पढ़ें: पांच रोचक फैक्ट्स जो हो सकते हैं आपके लिए उपयोगी

कुछ अपराधों के धाराओं (Section) के तहत  अपराध (Offence) और  सजा (Punishment)

  • धारा 13- जुआ खेलना/सट्टा लगाना=1 वर्ष की सजा और 1000 रूपये जुर्माना
  • धारा 153 -सांप्रदायिक दंगा भड़काने में लिप्त = 5 वर्ष की सजा
  • धारा 99  से 106 -व्यक्तिगत प्रतिरक्षा के लिए बल प्रयोग का अधिकार –
  • धारा 147-बलवा करना (Rioting) = 2 वर्ष की सजा/जुर्माना या दोनों  ( गिरफ्तार/जमानत होगी)
  • धारा 161-रिश्वत लेना/देना  = 3 वर्ष की सजा/जुरमाना या दोनों  (गिरफ्तार/जमानत नहीं)
  • धारा 171-चुनाव में घूस लेना/देना = 1 वर्ष की सजा/500 रुपये जुर्माना  (गिरफ्तार नहीं/जमानत होगी)
  • धारा 177- सरकारी कर्मचारी/पुलिस को गलत सूचना देना  = 6 माह की सजा/1000 रूपये जुर्माना
  • धारा 186-सरकारी काम में बाधा पहुँचाना = 3 माह की सजा/500 रूपये जुर्माना
  • धारा 191 – झूठी गवाही देना
  • धारा 193-न्यायालयीन प्रकरणों में झूठी गवाही  = 3/ 7 वर्ष की सजा और जुरमाना
  • धारा 216- लुटेरे/डाकुओं को आश्रय देने के लिए दंड 224/25 -विधिपूर्वक अभिरक्षा से छुड़ाना = 2 वर्ष की सजा/जुरमाना/दोनों
  • धारा 231/32 – जाली सिक्के बनाना = 7 वर्ष की सजा और जुर्माना  (गिरफ्तार/जमानत नहीं)
  • धारा 255-सरकारी स्टाम्प का कूटकरण  = 10 वर्ष या आजीवन कारावास की सजा
  • धारा 264-गलत तौल के बांटों का प्रयोग  = 1 वर्ष की सजा/जुर्माना या दोनों      (गिरफ्तार/जमानत होगी)
  • धारा 267- औषधि में मिलावट करना
  • धारा 272- खाने/पीने की चीजों में मिलावट   = 6 महीने की सजा/1000 रूपये जुर्माना /दोनों (गिरफ्तार नहीं/जमानत होगी)
  • धारा 274 /75- मिलावट की हुई औषधियां बेचना
  • धारा 279- सड़क पर उतावलेपन/उपेक्षा से वाहन चलाना  = 6 माह की सजा या 1000 रूपये का जुरमाना
  • धारा 292-अश्लील पुस्तकों का बेचना  = 2 वर्ष की सजा और 2000 रूपये जुर्माना    (गिरफ्तार/जमानत होगी)
  • धारा 294- किसी धर्म/धार्मिक स्थान का अपमान  = 2 वर्ष की सजा
  • धारा 302- हत्या/कत्ल (Murder) =  आजीवन कारावास /मौत की सजा   (गिरफ्तार/जमानत नहीं)
  • धारा 306- आत्महत्या के लिए दुष्प्रेरण   = 10 वर्ष की सजा और जुरमाना
  • धारा 309- आत्महत्या करने की चेष्टा करना  = 1 वर्ष की सजा/जुरमाना/दोनों     (गिरफ्तार/जमानत)
  • धारा 311- ठगी करना   =  आजीवन कारावास और जुरमाना       (गिरफ्तार/जमानत नहीं)
  • धारा 323- जानबूझ कर चोट पहुँचाना
  • धारा 354- किसी स्त्री का शील भंग करना  =  2 वर्ष का कारावास/जुरमाना/दोनों     (गिरफ्तार/जमानत)
  • धारा 363- किसी स्त्री को ले भागना(Kidnapping) =  7 वर्ष का कारावास और जुरमाना  (गिरफ्तार/जमानत)
  • धारा 366- नाबालिग लड़की को ले भागना
  • धारा 376- बलात्कार करना(Rape)       =   10 वर्ष/आजीवन कारावास   (गिरफ्तार नहीं /जमानत होगी)
  • धारा 379-चोरी (सम्पत्ति) करना          =   3 वर्ष का कारावास /जुरमाना/दोनों  (गिरफ्तार/जमानत)
  • धारा 392-लूट                                    =  10 वर्ष की सजा
  • धारा 395-डकैती (Decoity)                 =  10 वर्ष या आजीवन कारावास   (गिरफ्तार नहीं/जमानत)
  • धारा 417- छल/दगा करना (Cheating) =  1 वर्ष की सजा/जुरमाना/दोनों   (गिरफ्तार नहीं/जमानत होगी)
  • धारा 420- छल/बेईमानी से सम्पत्ति अर्जित करना =  7 वर्ष की सजा और जुरमाना
  • धारा 446-रात में नकबजनी करना
  • धारा 426- किसी से शरारत करना (Mischief) =  3 माह की सजा/जुरमाना/दोनों
  • धारा 463- कूट-रचना/जालसाजी
  • धारा 477(क)-झूठा हिसाब करना
  • धारा 489-जाली नोट  बनाना/चलाना    =  10 वर्ष की सजा/आजीवन कारावास  (गिरफ्तार/जमानत नहीं)
  • धारा 493- पर स्त्री से व्यभिचार करना  =  10 वर्षों की सजा
  • धारा 494-पति/पत्नी के जीवित रहते दूसरी शादी करना  = 7 वर्ष की सजा और जुरमाना (गिरफ्तार नहीं/जमानत होगी)
  • धारा 498/अ- अपनी स्त्री पर अत्याचार  =   3 वर्ष तक की कठोर सजा
  • धारा 497- जार कर्म करना (Adultery) =   5 वर्ष की सजा और जुरमाना
  • धारा 500- मान हानि  =  2 वर्ष  की सजा और जुरमाना
  • धारा 509- स्त्री को  अपशब्द कहना /अंगविक्षेप  करना = सादा  कारावास या जुरमाना

यह भी पढ़ें :

अडाणी करेंगे उत्तराखंड के विकास में सहयोग

डिजिटल साक्षरता का नया नाम – भामाशाह डिजिटल परिवार योजना

पांच रोचक फैक्ट्स जो हो सकते हैं आपके लिए उपयोगी

गाय राष्ट्रमाता घोषित – विधानसभा में ध्वनिमत से प्रस्ताव पारित

Releated Post