क्या भारत है महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित देश?

Is India Worst Nation for Women

India Worst Country for Women, India Tourism, Thomson Reuters Report, Indian Perspective, Is India Safe Nation, Crimes In India, Women Safety, Women safety worldwide, Incredible India, Government Of India, India Worst Nation for Women

Editorial: थामसन रायटर्स फाउंडेशन की एक रिपोर्ट ने कई मीडिया चैनलों की मुख्य धारा में धमाकेदार जगह बनायीं है. इस रिपोर्ट के अनुसार महिलाओं के लिए असुरक्षित देशो की सूची में भारत को शीर्ष पर रखा गया है. इस सूची के अनुसार विश्व के दस शीर्ष महिलाओं के लिए असुरक्षित देशों की सूची इस प्रकार से है:-

  1. भारत
  2. अफगानिस्तान
  3. सीरिया
  4. सोमालिया
  5. सऊदी अरब
  6. पाकिस्तान
  7. गणराज्य कोंगो
  8. यमन
  9. नाइजीरिया
  10. संयुक्त राज्य अमेरिका

भारत पर सर्वे का आधार 2007 से 2016 तक महिलाओं के खिलाफ बढे आपराधिक घटनाओं को रखा गया है. जिसके अनुसार इन वर्षों में 83 प्रतिशत की आपराधिक वृद्धि आंकी गयी है.

अब क्या भारत सच में महिलाओं के लिए सुरक्षित स्थान नहीं है यह एक ज्वलंत प्रश्न है. पाश्चात्य देशों का भारत के प्रति रुख कभी सकारात्मक नहीं रहा है. आज भारत जब पर्यटन के क्षेत्र में विकास की नयी परिभाषाएं गढ़ रहा है तो इस प्रकार की नकारात्मकता भारत के पर्यटन उद्योग को प्रभावित कर सकती है. जहाँ एक ओर भारत अतुल्य भारत को बढ़ावा दे रहा है वहीँ दूसरी ओर कुछ विदेशी संस्थान दूर कहीं वातानुकूलित कमरों में बैठ कर भारत के ऊपर रिपोर्ट बना रहे हैं.

भारत एक ऐसा देश है जहाँ नारियों को देवी का स्वरुप मानकर पूजा की जाती है. हाँ कुछ घटनाएँ वाकई में शर्मनाक हैं लेकिन कुछ घटनाओं के लिए पूरे देश को जिम्मेदार तो नहीं ठहराया जा सकता है. और आपराधिक घटनाओं में वृद्धि इसलिए देखी गयी है क्यूंकि इनकी रिपोर्ट के लिए बहुत ही सुविधाजनक माहौल बनाया गया है. जहाँ तक बात आती है महिलाओं की सुरक्षा की पिछले कुछ वर्षों में भारत ने अभूतपूर्व निर्णयों से महिलाओं की सुरक्षा के लिए कई प्रबंध किये हैं.

कुछ धार्मिक रीति रिवाजों (जो कि महिलाओं के हित में नहीं हैं जैसे तीन तलाक) पर भारत सरकार ने अपना पक्ष स्पष्ट रूप से रखा है. भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज भी अपने कार्य कुशलता के लिए विश्व विख्यात हैं. ऐसे में भारत के प्रति ऐसी नकारात्मक रिपोर्ट भारत में खबर बनाने की विदेशी संस्थाओं की सोची समझी साजिश के अलावा कुछ और प्रतीत नहीं होता.

भारत पहले की अपेक्षा ज्यादा सुरक्षित है और महिलाओं के लिए भारत सरकार ने कई सुविधाएँ प्रारंभ की हैं. आज जहाँ महिलाये नयी ऊँचाइयों को छू रहीं हैं वहीँ दूसरी ओर सुरक्षा के शीर्ष पदों में भी देश का गौरव बढा रहीं हैं. महिलाओं के लिए बहुत ही सकारात्मक प्रयास किये जा रहें है. धर्म, पंथ, सम्प्रदायों की बेड़ियों से उलट महिलाओं को आत्मनिर्भर और मजबूत बनाने में भारत अग्रणी देशों की भूमिका में है.

भारत महिलाओं के लिए असुरक्षित देश न कभी था और न कभी होगा. विदेशी मीडिया संस्थानों की भारत के प्रति नकारात्मकता कई पर्यटकों से भी सुनने को मिली है जिसे उन्होंने भारत में पर्यटन करने के बाद सिरे से नकार दिया था. उनके अनुसार भी छिट पिट घटनाएँ तो हर देश में होती हैं लेकिन भारत में हो रही घटनाओं को पाश्चात्य देशों में तिल का ताड़ बनाकर दिखाया जाता है.

Releated Post