केरल में भीषण बाढ़ के बाद महामारी का खतरा

Epidemic may hit kerala after flood

केरल में सदी की सबसे भयावह मानी जा रही बाढ़ वर्ष 2018  को शायद आसानी से न भूलने दे ।

  • इस बाढ़ में  लगभग साढ़े तीन सौ लोग भूस्खलन एवं अतिवृष्टि की चपेट में आ अपनी जान से हाथ धो बैठे हैं ।
  • 22 हजार से भी अधिक लोगों को पानी के बीच से बचाया गया है ।
  • लगभग 7 लाख लोग घर से बेघर हो गए हैं ।
  • आर्मी और NDRF की टीमें ऑपरेशन देवदूत के तहत बहुत बड़ा रेस्क्यू ऑपरेशन केरल में कर रहीं हैं ।
  • बहुत अधिक मात्रा में जानवरो के मृत शरीर भी पानी में देखे जा रहे हैं जो कि जल्दी न हटाए जाने पर किसी महामारी को न्यौता दे सकती हैं।

 

केरल की भीषण बाढ़ में चौंकाने वाले कुछ तथ्य

केरल में तेज राहत और बचाव कार्य लगाए गए हैं लगभग चार हजार स्वास्थ्य शिविर 

महामारी के खतरे को देखते हुए केंद्र सरकार ने लगभग चार हजार स्वास्थ्य शिविर लगा लिए हैं ।  जिनमे लगभग 90 से अधिक प्रकार की दवाइयां महामारी से बचने के लिए रखी गयी हैं। हालाँकि अभी तक महामारी के कोई संकेत नहीं आये हैं । आने वाले सप्ताह में मौसम विभाग ने भारी बारिश की कोई आशंका नहीं जताई है तो राहत और बचाव कार्य में तेजी देखने को मिल रही है । सभी राज्य आपदा की इस घडी में केरल की मदद के लिए अग्रसर हैं ।  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी  भी आपदा का जायजा ले 500 करोड़ रूपए की रहत धनराशि की घोषणा कर चुके हैं ।

यह भी पढ़ें:

अटल से बड़ा हो गया पाकिस्तान ? सिद्धू(sidhu) ने किया हर क्रिकेट फैन को शर्मिन्दा

जानिए संविधान के विवादास्पद अनुच्छेद 35 ए को

WOMEN OF INDIA ORGANIC FESTIVAL 2018

खतरे में दक्षिण के दो प्रमुख क्षेत्रीय दलों का अस्तित्व

Releated Post